10+ चीजें जो आपको वर्डप्रेस थीम बदलने से पहले अवश्य करनी चाहिए bitcoin4buying

क्या आप सोच रहे हैं कि वर्डप्रेस थीम बदलने से पहले आपको क्या करना चाहिए? 

थीम बदलना एक महत्वपूर्ण निर्णय है जो प्रत्येक वेबसाइट या ब्लॉग का मालिक कुछ वर्षों में कम से कम एक बार बदलता है। मैंने बेस्ट वर्डप्रेस थीम की एक लिस्ट बनाई है जिसे आप देख सकते हैं:

लेकिन जब आप अपनी वर्डप्रेस थीम को बदलते हैं, तो आपको कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे जिससे आपका कोई महत्वपूर्ण डेटा खोने से बच जायेगा। आज इस आर्टिकल में मैं आपको बताऊंगा वर्डप्रेस थीम बदलने से पहले आपको क्या करना चाहिए।

तो चलिए शुरू करते है…

10+ चीजें जो आपको वर्डप्रेस थीम बदलने से पहले अवश्य करनी चाहिए

यहाँ नीचे बताया गया है वर्डप्रेस थीम बदलने से पहले आपको क्या करना चाहिए…


अपने Code Snippets Save करें

कुछ वर्डप्रेस ब्लॉगर अपने वर्डप्रेस थीम को कस्टमाइज़ करने के लिए सीधे अपनी थीम फाइलों में कोड स्निपेट जोड़ते है। कोड स्निपेट आपकी वेबसाइट में नई फीचर को जोड़ने का एक शानदार तरीका है। लेकिन, यदि आप उन स्निपेट को सीधे अपनी थीम फ़ाइलों में जोड़ा हैं, तो थीम बदलने के बाद आप उन सभी को खो देंगे।

अपनी पुरानी थीम फ़ाइलों को ओपन करें और जोड़े गए सभी कोड को Save करके एक जगह Save करें। भविष्य में कोड स्निपेट जोड़ने के लिए, मैं हमेशा Code Snippets Plugin का उपयोग करें। जब आप Code Snippets Plugin का उपयोग करते है, तो थीम बदलने पर आपक उन्हें अलग से Save करने की जरूरत नहीं पड़ती है। यहाँ एक गाइड है – WordPress ब्लॉग में Code Snippet Add कैसे करें

वर्तमान वर्डप्रेस थीम की लोडिंग स्पीड चेक करें

अपनी थीम बदलने से पहले, आपको अपनी वर्तमान वेबसाइट की लोडिंग स्पीड और परफॉरमेंस चेक करनी चाहिए। इससे आप थीम बदलने के बाद पेज लोड टाइम की तुलना कर सकते हैं।

किसी भी वेबसाइट के लिए स्पीड महत्वपूर्ण है। यह एक Google Ranking Factor भी है। फास्ट-लोडिंग वेबसाइट सर्च इंजन रिजल्ट पेज में अच्छी रैंक करती हैं और बेहतर User Experience प्रदान करती है।

आप अपनी वेबसाइट लोडिंग स्पीड चेक करने के लिए Page Speed Checker Tool जैसे PageSpeed Insights, Pingdom और GTmetrix क उपयोग कर सकते है।

वर्तमान थीम की साइडबार और Widget Areas पर ध्यान दें

आपकी वेबसाइट पर विभिन्न विजेट जोड़ने के लिए साइडबार का उपयोग किया जाता है, जैसे Email Newsletter Subscription Forms, सोशल मीडिया बटन, पोपुलर पोस्ट, और बहुत कुछ। चूंकि प्रत्येक थीम में अलग-अलग Widget Areas होते हैं, इसलिए यदि आप थीम स्विच करते हैं तो आपके करंट विजेट आपकी साइट से हट सकते हैं।

इसलिए थीम बदलने से पहले यह नोट करना महत्वपूर्ण है कि आप अपने वर्डप्रेस साइडबार और अपनी वेबसाइट के किसी भी अन्य विजेट एरिया में किन विजेट्स का उपयोग कर रहे हैं। फिर थीम बदलने के बाद आप उन विजेट को उसी जगह रख सकें।

यदि आपने कोई कस्टम कोड या शॉर्टकोड जोड़ा है, तो इस कोड को कॉपी करके कहीं सुरक्षित जगह रख लें ताकि आप इसे अपनी नई थीम के साथ उपयोग कर सकें।

मौजूदा ट्रैकिंग कोड कॉपी करें

कई यूजर एनालिटिक्स ट्रैकिंग कोड को सीधे अपनी थीम फ़ाइलों में जोड़ते है।  हालंकि कुछ वर्डप्रेस थीम आपको अपने Theme Options Panel में ट्रैकिंग कोड जोड़ने की अनुमति देते हैं।

आपको यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि आप उन सभी Advertising और ट्रैकिंग कोड को कॉपी कर लिया हैं जिनका उपयोग आप Analytics, Advertising आदि के लिए कर रहे हैं, ताकि आप उन्हें अपनी नई थीम में जोड़ सकें। यदि आप इसे आसान बनाना चाहते हैं, तो एक प्लगइन का उपयोग करें। इससे आपक उन्हें अलग से Save करने की जरूरत नहीं पड़ती है।

अपनी वर्डप्रेस ब्लॉग का बैकअप लें

अपने ब्लॉग का बैकअप लेना हमेशा एक अच्छा विचार है। अपनी थीम बदलने से पहले, आपको अपने पोस्ट, पेज, प्लगइन्स, मीडिया और डेटाबेस का पूरी तरह से बैकअप लेना चाहिए। यहाँ गाइड है:

इससे यह मदद मिलेगी कि थीम बदलते समय कुछ भी गलत होने पर आप अपनी वेबसाइट को आसानी से रिस्टोर कर सकते हैं।

अपनी वर्डप्रेस ब्लॉग को Maintenance Mode में रखें

जब आप अपनी साइट में कुछ भी बदलाव करते है, तो अपनी वेबसाइट को Maintenance Mode में रखना हमेशा एक अच्छा रहता है। Maintenance Mode विजिटर को दर्शाता है कि ब्लॉग में कुछ बदलाव किया जा रहा है और उनको आपकी वेबसाइट के आधे-अधूरे डिजाईन को देखने रोकता है। यहाँ मैंने कुछ बेस्ट प्लगइन को लिस्टेड किया है जो आपकी ब्लॉग पर Maintenance Mode इनेबल करने में मदद कर सकते है – WordPress के लिए Best Maintenance Mode Plugins

सभी फीचर और इनस्टॉल वर्डप्रेस प्लगइन्स को टेस्ट करें

अपनी ब्लॉग पर नई वर्डप्रेस थीम इनस्टॉल और एक्टिवेट करने के बाद आपको यह टेस्ट करने की आवश्यकता है कि आपकी साईट की सभी फीचर और प्लगइन नई थीम के साथ ठीक से काम कर रहे है। आप अपनी पुरानी वर्डप्रेस थीम फाइलों से कॉपी किए गए कोड स्निपेट्स को वापस नयी थीम में जोडें।

सभी ब्राउज़रों और डिवाइस में नई वर्डप्रेस थीम को टेस्ट करें

क्रॉस-ब्राउज़र टेस्ट आपको यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि आपकी ब्लॉग पर नयी इनस्टॉल थीम विभिन्न ब्राउज़रों, स्क्रीन साइज़, ऑपरेटिंग सिस्टम और मोबाइल डिवाइस पर परफेक्ट दिखती है या नहीं। यदि आपका ब्लॉग किसी ब्राउज़र या डिवाइस पर परफेक्ट नहीं दिखता है, तो आप विज़िटर और ट्रैफ़िक खो सकते हैं। आप यह देखने के लिए Cross-Browser Testing Tools का उपयोग कर सकते हैं कि आपकी वेबसाइट विभिन्न ब्राउज़रों और डिवाइस पर कैसी दिखती है।

वर्डप्रेस प्लगइन्स डिलीट करें जिनकी अब आपको आवश्यकता नहीं है

जब आप थीम इंस्टॉल करेंगे तो कुछ वर्डप्रेस थीम प्लगइन्स को प्री-इंस्टॉल कर देते है। इनमें से कुछ उपयोगी हो सकते हैं, कुछ की आपको उनकी आवश्यकता नहीं होगी। यह देखने के लिए कि क्या आपकी नयी थीम ने कोई नया प्लगइन्स जोड़ा है या नहीं, Plugins >> Installed Plugins पर क्लिक करें। आपको यह गाइड पढना चाहिए:  WordPress Blog Ke Liye 14 Best Plugins

नया वर्डप्रेस थीम इनस्टॉल करने के बाद अपने ब्लॉग का लोडिंग स्पीड टेस्ट करें

नयी वर्डप्रेस थीम इनस्टॉल करने के बाद ब्लॉग का लोडिंग स्पीड चेक करना बहुत जरूरी है। जैसा कि मैंने पहले ही कहा स्पीड एक Google Ranking Factor है। अतः फास्ट-लोडिंग वेबसाइट सर्च इंजन रिजल्ट पेज में अच्छी रैंक करेगी।

यदि नई थीम आपकी पुरानी थीम की तुलना में स्लो है, तो Multiple Tests करें, विभिन्न लोकेशन से टेस्ट करें, और यह देखे कि कोई प्लगइन या फ़ायरवॉल सेटिंग्स इसका कारण तो नहीं है।

अपनी ब्लॉग की बाउंस रेट पर नजर रखें

थीम बदलने के बाद, अपनी ब्लॉग के Bounce Rate पर नज़र रखना महत्वपूर्ण है। यदि थीम बदलने के बाद से आपकी बाउंस रेट बढ़ गई है, तो आपको इसे कम करने पर काम करना चाहिए। आप अपने नेविगेशन मेनू में सुधार करें, अधिक Internal Linking करें, एक पोपुलर पोस्ट विजेट जोड़े, और बहुत कुछ करके आप अपने ब्लॉग का बाउंस रेट कम कर सकते हैं।

सबसे महत्वपूर्ण यह है कि आप जब किसी नए थीम पर स्विच करते है, तो रीडर की प्रतिक्रिया सुनें। कुछ रीडर आपके डिज़ाइन के कुछ हिस्सों को पसंद या नापसंद कर सकते हैं। आपको हर रीडर की प्रतिक्रिया सुनने और उनके द्वारा सुझाए गए डिजाईन पर ध्यान देने की जरूरत नहीं  है। लेकिन, अगर बहुत सारे रीडर एक ही समस्या का सामना कर रहे है, तो शायद आपको उसपर काम करना चाहिए।

मुझे उम्मीद है कि इस आर्टिकल ने आपको यह जानने में मदद की कि वर्डप्रेस थीम बदलने से पहले आपको क्या करना चाहिए। छोटा सा निवेदन, अगर यह आर्टिकल आपके लिए मददगार साबित हुई है, तो इसे शेयर करना न भूलें!

आपको ये भी पढना चाहिए: